दलाल स्ट्रीट में रोमांचक फ्राइडे

जागरण ब्यूरो, नई दिल्लीगुरुवार को वैश्विक शेयर बाजारों की जो दशा हुई थी, उससे सभी को आशंका थी कि भारतीय शेयर बाजार के लिए शुक्रवार का दिन अच्छा नहीं रहेगा। लेकिन एक ही दिन में बाजार ऐसा रंग दिखाएगा इसकी उम्मीद किसी ने नहीं की थी। भारतीय शेयर बाजारों में शुक्रवार का माहौल पहले गम और बाद में खुशी जैसा रहा। कारोबार के शुरुआती दौर में बीएसई का सेंसेक्स 3,474 अंकों की रिकॉर्ड गिरावट के साथ 29,389 के स्तर पर आ गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी 1,034 अंकों की गिरावट के साथ 8,555 तक लुढ़क गया। दोनों प्रमुख सूचकांकों में 10 फीसद की गिरावट होते ही 12 वर्षो बाद लोअर सर्किट लगाना पड़ा। बाजार में कारोबार 45 मिनट के लिए रोक दिया गया। जब दोबारा कारोबार शुरू हुआ तो माहौल बदला हुआ था। बाजार में निवेशक लौटने लगे थे। उसके बाद अधिकतर शेयरों में वैल्यू बाइंग के चलते सेंसेक्स 1,325.34 अंक चढ़कर 34,103.48 अंकों पर बंद हुआ। निफ्टी भी 365.05 तेजी के साथ 9,955.20 अंकों पर बंद हुआ।शुक्रवार को दोबारा शेयर बाजार में आई तेजी के लिए सेबी का आश्वासन, वित्त मंत्रलय की तरफ से अर्थव्यवस्था के आधारभूत तत्वों के मजबूत होने का भरोसा और एसबीआइ और एलआइसी जैसे बड़े वित्तीय संस्थानों की तरफ से जमकर की गई खरीददारी को कारण बताया जा रहा है। कम कीमत पर बड़ी कंपनियों के शेयर उठाने के चक्कर में नए निवेशक भी बाजार में आए जिससे माहौल में गर्माहट आई।
4>>कारोबार के शुरुआत में ही सेंसेक्स भरभराकर 3,474 अंक टूटा, निफ्टी में 1,034 अंकों की गिरावट
412 वर्षो बाद प्रमुख सूचकांकों में लोअर सर्किट लगा, कारोबार 45 मिनट के लिए स्थगित किया गया
4कारोबार दोबारा शुरु हुआ तो बदला माहौल, सेंसेक्स में निचले स्तर से 5,380 अंकों की रिकवरी

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

इतिहास में आज:जब दुनिया के किसी मुस्लिम देश में पहली बार चुनी गई महिला प्रधानमंत्री, सिर्फ 35 साल थी उनकी उम्र

  हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान में आज ही के दिन कोई महिला प्रधानमंत्री बनी थी। ये न सिर्फ पाकिस्तान की पहली महिला प्रधानमंत्री थीं, बल्कि कि...