भोपाल:राजधानी में प्लाज्मा डोनेशन में तेजी आएगी, एंटी बाॅडीज जांचने के लिए 300 किट मिलीं; एक बार में 25 सैंपल की जांच

 

भोपाल में अब कोरोना के संक्रमण को मात दे चुके लोगों की एंटीबॉडीज की जांच की जाएगी। जिससे बीमार लोगों के लिए प्लाज्मा डोनेशन कराया जा सके। - फाइल फोटो

  • आईसीएमआर के नए प्रोटोकॉल के तहत क्वानटेटिव किट से डोनर के सैंपल की जांच की जानी है
  • एंटीबॉडीज की जांच के जरिए पता लगाएंगे कि प्रतिरोधक क्षमता विकसित हुई या नहीं

राजधानी में अब कोरोना संक्रमितों को जरूरत के मुताबिक प्लाज्मा मिल सकेगा। आईसीएमआर के प्रोटाेकाॅल के तहत कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों में एंटीबॉडी जांचने के लिए क्वानटेटिव किट जीएमसी के प्लाज्मा बैंक को उपलब्ध गई है। अब केवल उसी व्यक्ति का प्लाज्मा लिया जाएगा जिसमें एंटी बाॅडीज डवलप हो गई हैं। इससे गंभीर संक्रमितों का उपचार किया जाएगा।

आईसीएमआर के नए प्रोटोकॉल के तहत क्वानटेटिव किट से डोनर के सैंपल की जांच की जानी है ताकि यह पता चल सके कि उसमें कोरोना से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोध क्षमता विकसित हुई है या नहीं। इस किट से यह पता चल जाएगा कि क्या स्थिति है। उसके बाद ही डोनर से प्लाज्मा लिया जाएगा।

300 किट मिली हैं, 25 से कम की जांच नहीं
जीएमसी की डिप्टी रजिस्ट्रार अमृता वाजपेयी के मुताबिक, जीएमसी को 300 किट मिल गई हैं। उन्होंने बताया कि किट में एक बार में 25 सैंपल की जांच होगी। अगर इससे कम जांच करेंगे तो इसका पूरा लाभ नहीं मिल पाएगा। उन्होंने बताया कि प्लाज्मा बैंक को भी यह उपलब्ध करवा दी गई है। खास बात यह है कि अगर इतने डोनर नहीं मिलते तो यह समस्या आएगी कि रिपोर्ट आने में समय लगेगा और अन्य सैंपल का इंतजार करना होगा।

ठीक हुए व्यक्तियों का प्लाज्मा लिया जा रहा है

इधर, जीएमसी के ब्लड बैंक प्रभारी डॉ. यूएम शर्मा ने बताया कि प्लाज्मा लेना शुरू भी कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि पहले क्वानटेटिव किट से टेस्ट होते थे लेकिन कई बार ऐस मामले सामने आए जब कोरोना से ठीक हुए व्यक्ति में एंटी बाडी नहीं बनी थी। इस वजह से उसका प्लाज्मा भी कोरोना संक्रमितों के लिए उपयोगी नहीं था। अब केवल उसी व्यक्ति से प्लाज्मा लिया जाएगा जिसमें एंटी बाडीज बन गई हैं। इससे गंभीर संक्रमितों के इलाज में मदद मिलेगी। उनका बेहतर उपचार हो सकेगा।

प्लाज्मा डोनेशन को बढ़ावा देंगे
कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बताया कि प्रशासन ने बड़े पैमाने पर प्लाज्मा डोनेशन को प्रोत्साहित करने के निर्णय लिया है। इसके लिए विभिन्न वालंटियर और संस्थाएं आगे रही है, जो ठीक हो चुके लोगों को प्लाज्मा डोनेशन के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

 

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

सरकारी नौकरी:UPSC ने CISF में भर्ती के लिए जारी किया नोटिफिकेशन, 22 दिसंबर तक आवेदन कर सकते हैं ग्रेजुएशन डिग्री होल्डर

 यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) ने सेंट्रल इंडस्ट्रिरीयल सिक्योरिटी फोर्स (CISF) में सहायक कमांडेंट (कार्यकारी) के पदों पर भर्ती के लिए...