सुशांत सुसाइड केस:सीबीआई अब करेगी 'साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी', आखिरी समय में अभिनेता की मानसिक स्थिति को जानने में मिलेगी मदद

 

सुशांत सिंह राजपूत की मौत 14 जून को मुंबई के बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में हुई थी। उनका शव उनके कमरे में फंदे पर लटका मिला था। मुंबई पुलिस ने इसे सुसाइड बताया था।

  • सुनंदा पुष्कर और बुराड़ी परिवार सुसाइड केस में भी हुई थी ये जांच
  • जांच के जरिए व्यक्ति के दिमाग को पढ़ने की कोशिश की जाती है

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले की जांच कर रही सीबीआई की टीम अब उनकी साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी भी करेगी। ये काम एजेंसी की CFSL (सेंट्रल फोरेंसिक साइंस लैबोरेट्री) टीम द्वारा किया जाएगा। इसके तहत अभिनेता की सभी सोशल मीडिया पोस्ट्स की स्टडी करते हुए आखिरी समय में उनके दिमाग और उनके मनोभावों को पढ़ने की कोशिश की जाएगी।

इस तरह की ऑटोप्सी के दौरान जांच टीम उनकी सोशल मीडिया एक्टिविटीज के अलावा उनकी डायरी में लिखे गए नोट्स की स्टडी करेगी। इस दौरान उनके द्वारा फेसबुक और इंस्टाग्राम पर की गई पोस्ट्स से लेकर उनकी वॉट्सएप चैट्स और परिवार, दोस्तों और अन्य लोगों के साथ की गई उनकी बातचीत भी शामिल है। इसके जरिए उनके जीवन के हर पहलू का बेहद बारीकी के साथ विस्तृत अध्ययन किया जाएगा।

मानसिक स्थिति का समग्र चित्र बनाया जाएगा

साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी के दौरान सीबीआई अभिनेता के मूड में होने वाले बदलावों, व्यवहार के पैटर्न और यहां तक कि व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी बातें भी जानने की कोशिश करेगी। इन सब कामों के जरिए आखिरी समय में उनकी मानसिक स्थिति का एक समग्र चित्र बनाने की कोशिश की जाएगी।

महत्वपूर्ण साबित हो सकती है ये ऑटोप्सी

विशेषज्ञों का मानना है कि सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में सच्चाई को सामने लाने में इस तरह की साइकलॉजिकल ऑटोप्सी बेहद महत्वपूर्ण साबित हो सकती है। उनके मुताबिक एक तरह से ये अभिनेता के दिमाग का पोस्टमार्टम करना होगा।

इन बड़े मामलों में भी हुई थी साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी

ये तीसरा मौका है, जब किसी हाईप्रोफाइल केस में CFSL टीम इस तरह की जटिल जांच प्रक्रिया को अपनाते हुए जांच करेगी। इससे पहले सुनंदा पुष्कर और बुराड़ी परिवार आत्महत्या मामले में भी इस तरह की जांच की गई थी।

तेजी से जांच कर रही सीबीआई

इससे पहले 19 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को इस मामले की जांच जारी रखने की अनुमति दी थी। जिसके बाद एजेंसी ने एक स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम बनाकर मामले की जांच शुरू कर दी थी। 20 अगस्त को मुंबई पहुंचने के बाद से ही टीम इस मामले में बेहद तेजी से जांच कर रही है।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

अमेरिका-चीन फाइट:अमेरिका ने चीन की चिप निर्माता और ऑयल कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया, प्रतिबंधित कंपनियों की संख्या 35 पर पहुंची

  पेंटागन द्वारा ब्लैकलिस्टेड 4 नई कंपनियों में सेमीकंडक्टर मैन्यूफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉरपोरेशन और चाइना नेशनल ऑफशोर ऑयल कॉरपोरेशन के नाम ...