नई शिक्षा नीति पर चर्चा:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थोड़ी देर में एजुकेशन कॉन्क्लेव को संबोधित करेंगे; नई पॉलिसी पर चर्चा के लिए सरकार शिक्षा पर्व मना रही

मोदी का कहना है कि नई एजुकेशन पॉलिसी में पढ़ने की बजाय सीखने पर फोकस है। सरकार ने पैशन, प्रैक्टिकल और परफॉर्मेंस पर जोर दिया है। (फाइल फोटो)

  • सरकार ने जुलाई में राष्ट्रीय शिक्षा नीति का ऐलान किया था
  • 34 साल बाद देश की एजुकेशन पॉलिसी बदली गई है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थोड़ी देर में एजुकेशन कॉन्क्लेव को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करेंगे। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत हो रहे इस कॉन्क्लेव- '21वीं सदी में स्कूली शिक्षा' का आज दूसरा और आखिरी दिन है।

25 सितंबर तक शिक्षा पर्व चलेगा
शिक्षा पर्व के सिलसिले में शिक्षा मंत्रालय एजुकेशन कॉन्क्लेव का आयोजन कर रहा है। नई शिक्षा नीति को आगे ले जाने के लिए मंत्रालय ने 8 सितंबर को शिक्षा पर्व की शुरूआत की थी, जो 25 सितंबर तक चलेगा। इसके तहत राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 पर चर्चा के लिए देशभर में वेबिनार, वर्चुअल कॉन्फ्रेंस औक कॉन्क्लेव किए जा रहे हैं।

नई शिक्षा नीति के जरिए हायर एजुकेशन में बदलाव और सुधारों के विषय पर इसी हफ्ते एक कॉन्फ्रेंस हुई थी। 7 सितंबर को इसके ओपनिंग सेशन को मोदी ने ही संबोधित किया था। उन्होंने कहा कि नई पॉलिसी में पढ़ने की बजाय सीखने पर फोकस है। सरकार ने पैशन, प्रैक्टिकल और परफॉर्मेंस पर जोर दिया है।

नई नीति में नॉलेज पर फोकस
सरकार ने जुलाई में नई शिक्षा नीति की घोषणा की थी। 34 साल बाद एजुकेशन पॉलिसी को बदला गया है। नई नीति में स्कूल एजुकेशन और हायर एजुकेशन को लेकर बड़े बदलाव किए गए हैं। सभी स्कूलों में कक्षा पांचवीं तक के बच्चों को अब मातृ भाषा या क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाया जाएगा। नई नीति में नॉलेज पर फोकस करते हुए देश को ग्लोबल सुपरपावर बनाने पर जोर दिया गया है।

 

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

साइक्लोन निवार की आंखों देखी:तूफान से भी अधिक डरावना था, तूफान का वो खौफ!

  चेन्नई में पिछले 24 घंटे से बारिश हो रही है। कई इलाकों में पानी भर गया है। ज्यादातर इलाके खाली करा लिए गए हैं। चेन्नई एयरपोर्ट से बाहर नि...