किसान बिल का विरोध:12 जिलों में ट्रैक पर बैठे किसान, 15 टोल प्लाजा में यातायात रोका, नेताओं को चेताया- राजनीति न करें

 

                            लुधियाना में प्रदर्शन करते किसान।

  • हरियाणा, हिमाचल, जम्मू, राजस्थान चंडीगढ़ जाने के रास्ते किए बंद
  • किसान बोले- 5 अक्टूबर तक ट्रैक से नहीं हटेंगे, इसके बाद बनाएंगे फिर से रणनीति

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों को रद्द कराने के लिए किसानों के रेल रोको अभियान का दूसरा चरण रविवार को शुरू हो गया। इसके साथ ही किसानों ने धरने को 5 अक्टूबर तक बढ़ाने का ऐलान भी कर दिया। अमृतसर, लुधियाना, जालंधर, फतेहगढ़ साहिब, बठिंडा, फिरोजपुर और पटियाला समेत कई जिलों में किसान रेलवे ट्रैक पर टेंट लगाकर धरने पर बैठे।

गुरदासपुर, नवांशहर, रोपड़, होशियारपुर और पटियाला में किसानों और आढ़तियों ने प्रदर्शन किया। कई जिलों में किसानों ने जीयो कंपनी के सिम कार्ड और जीयो के पोस्टर भी जलाए। इन धरने प्रदर्शनों में 31 किसान जत्थेबंदियां शामिल रहीं। सूबे में लगभग 15 टोल प्लाजा में धरना लगाकर यातायात ठप कर दिया।

अमृतसर में किसान 8 दिन से धरने पर बैठे

इससे हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान और चंडीगढ़ जाने वाले रास्ते पूरी तरह ठप रहे। यहां से किसी को जाने दिया जाएगा और नहीं किसी को पंजाब में आने दिया गया। अमृतसर स्थित जंडियाला गुरु के देवीदासपुरा में रेलवे फाटक पर लगे तो किसान लगातार आठ दिन से धरने पर बैठे हैं।

किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के राज्य महासचिव सरवन सिंह पंधेर ने कहा कि राहुल गांधी और सुखबीर अपनी खोई हुई राजनीतिक ताकत को इन संघर्षों में ढूंढ़ रहे हैं। किसान नेताओं ने कहा कि सांझा संघर्ष का सप्ताह, रेल रोको, भाजपाइयों के घरों का घेराव, माॅल, रिलायंस पेट्रोल पंपों और टोल प्लाजा पर धरने दिए जाएंगे। किसानों ने भाजपा के राज्यसभा सदस्य श्वेत मलिक की कोठी के बाहर भी पक्का धरना लगा दिया है।

भुच्चो मंडी में कानूनों के विरोध में रविवार को महिलाओं ने पीएम मोदी के पोस्टर को चप्पलें दिखाईं।

भुच्चो मंडी में कानूनों के विरोध में रविवार को महिलाओं ने पीएम मोदी के पोस्टर को चप्पलें दिखाईं।

किसान जत्थेबंदियों की बैठक आज

भाकियू नेता हरमीत सिंह कादियां और कुलवंत सिंह संधू ने कहा कि अमृतसर, लुधियाना, जालंधर पटियाला फतेहगढ़ साहिब रेल रोको आंदोलन एक सप्ताह के लिए निश्चित हैं। यहां किसान पक्का धरना लगाकर बैठ गए हैं। इन स्थानों से किसी भी ट्रेन को नहीं निकलने दिया जाएगा। अगली रणनीति के लिए सूबे की 31 जत्थेबंदियों की शुक्रवार को फिर मीटिंग होगी और कृषि कानूनों को रद्द कराने तक संघर्ष करेंगे।

अमृतसर के देवीदासपुरा में किसानों ने जीओ के पोस्टर जलाए और कहा कि कानून रद्द किए जाने तक विरोध जारी रहेगा।

मोदी एंड कंपनी को भगाएंगे : किसान

मजदूर आगू कमलजीत खन्ना और किसान नेता हरदीप सिंह गालिब ने कहा कि जैसे पंजाबियों ने अंग्रेजों को भगाया था। वैसे ही मोदी एंड कंपनी को भगाया जाएगा। पंजाब के लोग एक तमाचा पड़ा तो दूसरा गाल आगे नहीं करेंगे, पंजाब के शेर भगत सिंह, राजगुरु सुखदेव की तर्ज पर चलेंगे। ईंट का जवाब पत्थर से देंगे। भाजपा को भी पंजाब से भगाया जाएगा। ये पंजाब के गद्दार हैं।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

CRPF PET 2020:CRPF ने जारी की फिजिकल एग्‍जाम की तारीख, 789 पदों पर भर्ती के लिए 14 दिसंबर को होगी परीक्षा

  सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (CRPF) ने सब इंस्‍पेक्‍टर, इंस्‍पेक्‍टर, हेड कांस्‍टेबल समेत अन्‍य पदों पर भर्ती के लिए फिजिकल एग्‍जाम की डेट...