चुनाव पर कोरोना इफेक्ट:नेपाल सीमा सील होने से वोट से वंचित होंगे 20 विधानसभा क्षेत्र के तीन लाख से अधिक वोटर

 

   औसतन हर विस क्षेत्र के 15-15 हजार वोट नेपाल में फंसे, सीमा सील रही तो अलग होगा चुनावी गणित

(दिग्विजय कुमार) कोरोना संक्रमण की वजह से पिछले 7 माह से नेपाल सीमा पूरी तरह सील है। सीधा असर बिहार नेपाल के बीच बेटी-रोटी के संबंधों पर पड़ा है। सीमा से सटे दोनों इलाकों में बसे दोनों ओर के लोग जहां के तहां फंसे हुए हैं। रोजी-रोटी कमाने नेपाल गए हजारों लोग उसी पार अटके हैं। इस स्थिति का सीधा प्रभाव सीमा से सटे 20 विधानसभा क्षेत्रों पर देखा जा रहा है।

जानकारों की मानें तो यदि चुनाव तक नेपाल सीमा सील रही तो सीमावर्ती विधानसभा क्षेत्रों का चुनावी गणित इस साल कुछ अलग होगा। सीमा से सटे प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के 3 से 5 फीसदी वोटर चुनाव से वंचित हो सकते हैं। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में औसतन ढाई से तीन लाख वोटर हैं। सीमा सील होने के कारण औसतन 15 हजार वोटर नेपाल में फंसे हुए हैं। इस तरह करीब 3 लाख बिहारी वोटर चुनाव से वंचित हो सकते हैं।
नेपाल के वीरगंज में रह रहे हैं रक्सौल के 20 हजार से अधिक लोग

पूर्वी चंपारण का रक्सौल विधानसभा क्षेत्र, नेपाल के औद्योगिक क्षेत्र वीरगंज से सटा हुआ है। वीरगंज औद्योगिक घराने के लोग भी अपनी पंसद के लोगों को रक्सौल का विधायक देखना चाहते हैं। वहीं, रक्सौल के काफी लोग वीरगंज में बसे हुए हैं। जिनके माध्यम से इन औद्योगिक घरानों का चुनावी दंगल में अप्रत्यक्ष प्रभाव रहता है।

लॉकडाउन के कारण उनका आना-जाना बंद है। विभव कुमार सिंह बताते हैं कि करीब 20 हजार लोग वीरगंज में रहते हैं। सीमा सील रही तो सभी चुनाव से वंचित हो जाएंगे। सीतामढ़ी के रीगा विस क्षेत्र के बैरगनिया बाजार के दो सौ से अधिक लोग नेपाल के रौतहट के गौड़, शिवनगर, चंद्रनिगाहपुर, डुमरिया बाजार में रोजगार करते हैं।

वीरगंज में सीमावर्ती जिलों के अधिकारियों के साथ हुई बैठक
इस बीच वीरगंज में नेपाल के अधिकारियों के साथ पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण जिले के अधिकारियों की बैठक हुई। इसमें वर्तमान हालात पर चर्चा हुई। शांतिपूर्ण निष्पक्ष चुनाव को लेकर दोनों ओर के अधिकारियों के बीच रणनीति तय की गई। बताया गया कि इन दिनों एक बार फिर नेपाल में कोरोना संक्रमण का प्रसार बढ़ा है। लिहाजा, विधानसभा चुनाव तक सीमा खुलने की संभावना भी कम है।

सीमा से सटा विस क्षेत्र

  1. वाल्मीकिनगर
  2. रामनगर
  3. सिकटा
  4. रक्सौल
  5. नरकटिया
  6. ढाका
  7. रीगा
  8. बथनाहा
  9. परिहार
  10. सुरसंड
  11. हरलाखी
  12. खजौल
  13. बाबूबरही
  14. लौकहा
  15. निर्मली
  16. नरपतगंज
  17. फारबिसगंज
  18. सिकटी
  19. बहादुरगंज
  20. ठाकुरगंज

नेपाल में रहने वाले भारतीय मूल के निवासियों को नेपाल प्रशासन को मतदान देने के लिए जानकारी देनी होगी। नेपाल प्रशासन मतदान के लिए अनुमति भी देगा। लेकिन वोटर को मतदान के 48 घंटे के पहले अपने घर जाना होगा। निर्धारित समय में अगर वे नहीं आते हैं,तो इसकी जिम्मेवारी संबंधित मतदाता की होगी।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

किसान आंदोलन की 10 फोटो:कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब-हरियाणा में तनाव, पुलिस ने दिल्ली जाने से रोका तो किसान सड़कों पर ही बैठ गए

  केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब और हरियाणा के हजारों किसान दिल्ली के लिए रवाना हुए हैं। फोटो करनाल के समाना बाहू इलाके की है। केंद...