पर्सनल फाइनेंस:पैसों की जरूरत पड़ने पर PF से पैसा निकालने से बचें, इन 5 तरीकों से आपको कम ब्याज पर मिलेगा पैसा और रिटायरमेंट का पैसा भी रहेगा सुरक्षित

 

           अप्रैल से अगस्त तक 94 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर्स ने PF से पैसा निकाला है

  • 1 लाख रुपए निकालने पर रिटायरमेंट के समय साढ़े 11 लाख रुपए कम मिलेंगे
  • SBI 7.50 की सालाना ब्याज दर पर 20 लाख रुपए तक का लोन दे रहा है

कोरोना क्राइसिस के कारण लोगों को पैसों से जुड़ी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। इससे निपटने के लोग अपने PF फंड का सहारा ले रहे हैं। लेकिन बिना सोचे समझे ऐसा करने से आपके रिटायरमेंट फंड को बड़ा नुकसान हो सकता है। PF का पैसा निकालने की बजाए आप अन्य तरीकों से पैसा जुटाकर पैसों का इंतजाम कर सकते हैं। हम आपको बता रहे हैं कि PF फंड से पैसा निकलना आपके रिटायरमेंट फंड को कितना नुकसान पहुंचाएगा। इसके अलावा हम ऐसे 5 उपाय बता रहे हैं जिनसे आप अपने लिए पैसे जुटा सकते हैं।

आप के फंड पर कितना असर पड़ेगा
PF
पर 8.5 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है। इसके अनुसार एक अनुमानित कैलकुलेशन के मुताबिक, अगर आपके रिटायरमेंट में 30 साल का समय बाकी है और अभी आप पीएफ अकाउंट से 1 लाख रुपए निकालते हैं तोइससे आपके रिटायरमेंट फंड पर 11.55 लाख रुपए का असर पड़ेगा। यहां जानें कितना पैसा निकालने पर आपने रिटायरमेंट फंड पर कितना असर पडेगा।

कितने पैसे निकालने पर

20 साल बाद कितना कम मिलेगा (रु)

30 साल बाद कितना कम मिलेगा (रु)

50 हजार

2 लाख 5 हजार

5 लाख 27 हजार

1 लाख

5 लाख 11 हजार

11 लाख 55 हजार

2 लाख

10 लाख 22 हजार

23 लाख 11 हजार

3 लाख

15 लाख 33 हजार

34 लाख 67 हजार

नोट : ये टेबल एक मोटे अनुमान के हिसाब से दी गई है क्योंकि पीएफ पर मिलने वाले ब्याज की समीक्षा हर 3 महीने में होती है। इसके अलावा यहां जो टेबल बताई गई है उसमें ब्याज की गणना सालाना हिसाब से की गई गई।

इन 5 तरीकों से कर सकते हैं पैसों का इंतजाम

गोल्ड लोन
देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) सहित देश ज्यादातर बैंकों ने पर्सनल गोल्ड लोन की सुविधा शुरू की है। इसके तहत ग्राहक सोना रखकर कर्ज ले सकता है। SBI 7.50 की सालाना ब्याज दर पर 20 लाख रुपए तक का लोन दे रहा है। SBI के अलावा बैंक ऑफ इण्डिया, पंजाब नेशनल बैंक और बैंक बड़ोदा सहित अन्य बैंक भी गोल्ड लोन दे रहे हैं।

FD पर ले सकते हैं लोन
अगर आपके पास कोई फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) उस पर लोन ले सकते हैं। इस पर आसानी से और कम ब्याज दर पर लोन मिलना। कई बैंक ऐसे हैं जो एफडी पर 6 फीसदी से भी कम ब्याज पर लोन दे रहे हैं। अगर आप एफडी पर लोन लेते हैं तो आपको फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज से 1-2 फीसदी ज्यादा ब्याज देना होगा। जैसे मान लीजिए की आपकी एफडी पर 4 फीसदी ब्याज मिल रहा है तो आपको 6 फीसदी ब्याज दर पर लोन मिल सकता है। एफडी की वैल्यू का 90 फीसदी तक आप लोन ले सकते हैं। मान लीजिए आपकी एफडी की कीमत 1.5 लाख रुपए है तो आपको 1 लाख 35 हजार रुपए लोन मिल सकता है।

टॉप-अप होम लोन
अपनी पैसों की जरूरत को पूरा करने के लिए आप बैंक से टॉप-अप होम लोन भी ले सकते हैं। ये लोन आपको कम ब्याज दर पर पैसे उपलब्ध कराता है। अगर आपने होम लोन लिया है तो बैंक से बात करके उस लोन पर आसानी से टॉप-अप करा सकते हैं। टॉप अप लोन की ब्याज दरें होम लोन से कुछ अधिक लेकिन पर्सनल लोन से कम होती हैं।

क्रेडिट कार्ड के पर लोन
क्रेडिट कार्ड जारी करने वाली वित्तीय संस्थाएं कार्डधारकों को उनके कार्ड के प्रकार, खर्च और रीपेमेंट के आधार पर कर्ज देते हैं। एक बार एक कार्डधारक इस कर्ज का लाभ उठा लेता है, तो उसकी क्रेडिट सीमा उस राशि से कम हो जाएगी। हालांकि, कुछ कर्जदाता स्वीकृत क्रेडिट सीमा से ज्यादा और क्रेडिट कार्ड के बदले लोन देते हैं। अगर आप भी क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो इस पर लोन ले सकते हैं।

जन धन खाता वाले ले सकते हैं ओवरड्राफ्ट की सुविधा का लाभ
केंद्र सरकार द्वारा गरीबों को बैंक से जोड़ने के लिए जन धन योजना शुरू की थी। इस योजना के तहत कई तरह के लाभ गरीबों को मिलते हैं। जिनमें 5000 रुपए तक के ओवरड्राफ्ट की सुविधा भी शामिल है। यानी आप जरूरत के समय बतौर लोन 5000 रुपए तक अपने जन-धन खाते से निकाल सकते हैं। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए आपका आधार कार्ड बैंक खाते से लिंक होना जरूरी है।ओवरड्राफ्ट सुविधा का फायदा तब लिया जा सकता है जब आपके अकाउंट में पैसे ना हों। हालांकि, इस पर ब्याज वसूला जाता है। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए आपको बैंक जाना होगा।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

इतिहास में आज:जब दुनिया के किसी मुस्लिम देश में पहली बार चुनी गई महिला प्रधानमंत्री, सिर्फ 35 साल थी उनकी उम्र

  हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान में आज ही के दिन कोई महिला प्रधानमंत्री बनी थी। ये न सिर्फ पाकिस्तान की पहली महिला प्रधानमंत्री थीं, बल्कि कि...