ग्लोबल करेंसी:ग्लोबल पेमेंट में यूरो करेंसी की धाक बढ़ी, 2013 के बाद पहली बार अक्टूबर माह में डॉलर में भुगतान हुआ कम

 

            अक्टूबर माह में कुल ट्रांजेक्शन में ब्रिटेन, कनाडा और जापान के करेंसी की हिस्सेदारी 12.25% रही।

  • रिपोर्ट के मुताबिक कुल फॉरेन एक्सचेंज ट्रांजेक्शन का 85% हिस्सा डॉलर में होता है
  • डेटा के मुताबिक अक्टूबर में लगभग 37.82% कैश यूरो में ट्रांसफर किए गए

कोरोनाकाल में ग्लोबल पेमेंट के लिए अमेरिकी डॉलर के बजाय यूरो को ज्यादा इस्तेमाल किया गया। सोसाइटी फॉर वर्ल्डवाइड इंटर बैंक फाइनेंशियल टेलीकम्युनिकेशन (Swift) ने यह जानकारी दी, जो 200 देशों के 11 हजार वित्तीय संस्थानों के इंटर-बॉर्डर पेमेंट मैसेज को संभालती है।

यूरो का दबदबा

स्विफ्ट की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक अक्टूबर में यूरोपियन करेंसी यूरो को इस्तेमाल सबसे अधिक किया गया। इसके बाद ब्रिटिश पाउंड और जापान की करेंसी येन का इस्तेमाल किया गया। कनेडियन डॉलर और चीन का युआन भी इस लिस्ट में शामिल हैं।

अमेरिकी डॉलर के इस्तेमाल में कमी

ट्रेड में उतार-चढ़ाव, महामारी के कारण मंदी और राजनीतिक बदलाव के चलते इंटरनेशनल पेमेंट में अमेरिकी डॉलर में कमी देखी गई। ब्लूमबर्ग के मुताबिक डॉलर अपने मार्च हाई से 11% नीचे गिर चुका है। वहीं, बैंक ऑफ इंटरनेशनल सेटलमेंट (BIS) की जुलाई रिपोर्ट के मुताबिक क्रॉस बॉर्डर लोन के लिहाज से डॉलर अभी भी टॉप फंडिंग करेंसी है।

रिपोर्ट के मुताबिक कुल फॉरेन एक्सचेंज ट्रांजेक्शन का 85% हिस्सा डॉलर में होता है। यह आधिकारिक फॉरेन एक्सचेंज रिजर्व का 61% होता है। BIS ने कहा कि कुल इंटरनेशनल ट्रेड का आधा हिस्सा अमेरिकी करेंसी डॉलर में होती है।

अक्टूबर में यूरो का ट्रांजेक्शन

Swift द्वारा जारी डेटा के मुताबिक अक्टूबर में लगभग 37.82% कैश यूरो में ट्रांसफर किए गए, जो फरवरी 2013 के बाद से अबतक सर्वोच्च स्तर है। यह पिछले साल के दिसंबर माह से अक्टूबर तक 6% से ज्यादा बढ़ा। इसी दौरान डॉलर का इस्तेमाल 4.6% नीचे फिसला है, जो दिसंबर में 37.64% रहा था।

अक्टूबर माह में कुल ट्रांजेक्शन में ब्रिटेन, कनाडा और जापान के करेंसी की हिस्सेदारी 12.25% रही। ग्लोबल पेमेंट में डॉलर का इस्तेमाल अप्रैल 2015 में सबसे अधिक हुआ था। तब कुल पेमेंट में डॉलर की हिस्सेदारी 45.3% रही थी।

युआन के इस्तेमाल में सुधार

रिपोर्ट के मुताबिक अक्टूबर में युआन का इस्तेमाल 1.66% कम हुआ है, जो अप्रैल माह के बाद खराब स्थिति है। वहीं, चीन की करेंसी युआन भी लिस्ट में अन्य शीर्ष करेंसी के साथ कंपीट कर रही है। Swift के मुताबिक अक्टूबर 2010 में युआन की रैंकिंग 34वां थी, जो 2014 में टॉप 6 में शामिल हो गई। यह लगातार अपनी स्थिति मजबूत कर रही है। कुल हिस्सेदारी में इसकी भागीदारी 2% से कम है।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

अमेरिका-चीन फाइट:अमेरिका ने चीन की चिप निर्माता और ऑयल कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया, प्रतिबंधित कंपनियों की संख्या 35 पर पहुंची

  पेंटागन द्वारा ब्लैकलिस्टेड 4 नई कंपनियों में सेमीकंडक्टर मैन्यूफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉरपोरेशन और चाइना नेशनल ऑफशोर ऑयल कॉरपोरेशन के नाम ...